ISLAM DHARM KITNA PURANA HAI OR JANIYE

ISLAM DHARM KITNA PURANA HAI OR JANIYE

ISLAM DHARM KITNA PURANA HAI

HUZUR PAAK ADAM ALAYHI SALAM KI UMAR HADISO ME BATAYI JATI HAI लगभग 960 वर्षों 

TO USKE BAAD 124000 PAIGAMBAR AAYE TO AAP KHUD SOCHIYE ISLAM DHARM KITNA PURANA HAI OR SACCHA HAI

KHUDA EK HAI WO SIRF ALLAH HAI .

POPULATION IN WORLD

ISLAM DHARM KITNA PURANA HAI ETC

POPULATION IN WORLD

दूसरे स्थान पर इस्लाम को मानने वाले  रिपोर्ट के अनुसार, साल 2020 के लिए अनुमान के हिसाब

से दुनिया में MUSLAM DHARM 1.8 BILLION SOMETHING HAI

ईसाई धर्म को मानने वाले 2.38 बिलियन यानी करीब 238 करोड़ हैं।

ISLAM

इस्लाम एक प्रमुख धर्म है जो दुनिया भर में करोड़ों लोगों द्वारा मान्यता प्राप्त है।

यह धर्म एकदेशीयता, शांति, और अनुशासन के मूल्यों पर आधारित है।

इस्लाम के आदि ग्रंथ को कुरान कहा जाता है, जिसे अल्लाह के द्वारा मुहम्मद पर भेजा गया माना जाता है।

ISLAM DHARM KITNA PURANA HAI OR JANIYE

LOGO KA KEHNA YE HAI YE 1400 SAAL PURANA HAI LEKIN NAHI YE ABHI TAK SABIT NHI HUI 

इस्लाम की उत्पत्ति लगभग 1400 साल पहले हुई थी। इस्लाम के संस्थापक मुहम्मद प्रोफेट कहलाएं और

उन्हें अपने उपदेशों के माध्यम से अल्लाह का पैग़ामबर माना जाता है।

मुहम्मद प्रोफेट के पहले इस्लाम के विभिन्न नबी और पैग़ामबरों ने इस्लाम

का प्रचार किया और इसलिए उन्हें भी बड़ा महत्व दिया जाता है।

इस्लाम धर्म के मानने वाले लोगों को मुसलमान कहा जाता है।

इस्लाम में ईश्वर को अल्लाह कहा जाता है और

WO ALLAH HI JO HAI JISNE DUNIYA BANAYI OR YE SAB KUCH BNAYA JO IS DUNIYA Me HAI

ISLAM DHARM KITNA PURANA HAI OR JANIYE

मुसलमानों को उनकी ईमानदारी, ईमान, और नेकी के माध्यम से अल्लाह के पास पहुंचने का मार्ग बताया जाता है।

इस्लाम में प्रतिस्पर्धा, हिंसा, और अन्याय के खिलाफ लड़ाई करने की सलाह दी जाती है।

FIVE PILLARS OF THE ISLAM

इस्लाम के मुख्य सिद्धांतों में शामिल हैं:

  • तौहीद: इस्लाम में तौहीद का महत्वपूर्ण स्थान है, जिसका अर्थ है कि अल्लाह एकमात्र ईश्वर हैं और उनका कोई साथी नहीं है।
  •  
  • नमाज़: मुसलमानों के लिए नमाज़ एक महत्वपूर्ण धार्मिक कार्य है।
  • यह प्रतिदिन पांच बार की जाती है और उन्हें अल्लाह की ओर से भेजी गई दिशा में नमाज़ पढ़नी होती है।
  •  
  • रोज़ा: रोज़ा एक महत्वपूर्ण धार्मिक आचरण है जिसे मुसलमान अल्लाह की ख़ुशी के लिए मान्यता प्राप्त करते हैं।
  • इसे रमज़ान महीने में रखा जाता है, जब मुसलमान दिनभर के वक्त में भोजन और पानी से परहेज़ करते हैं।
  •  
  • जकात: जकात एक प्रकार का धार्मिक दान है जिसे मुसलमानों को अल्लाह की ख़ुशी के लिए देना चाहिए।
  • इसे धन की निशुल्क वितरण के रूप में किया जाता है।
  • हज़: हज़ एक पवित्र तीर्थयात्रा है जिसे हर साल मुसलमानों को मक्का शरीफ़ में करना चाहिए।
  • यह एक महत्वपूर्ण आचरण है और मुसलमानों के लिए अल्लाह की ओर से बड़ा महत्व रखता है।

इस्लाम में कई महत्वपूर्ण नबी और पैग़ामबर हैं, जिनमें से कुछ नाम हैं:

SOME PROPHETS NAME 

  • आदम (Adam)
  • नूह (Noah)
  • इब्राहीम (Abraham)
  • मूसा (Moses)
  • ईसा (Jesus)
  • मुहम्मद (Muhammad)

ये नबी और पैग़ामबर अपने युग में अल्लाह के उपदेशों का प्रचार करते रहे हैं

और मानवता को अल्लाह की इच्छा के अनुसार जीने की सलाह दी। उनके उपदेश और उनकी जीवनी से,

इस्लाम के अनुयायों को अपने जीवन को धार्मिक और नैतिक मूल्यों के आधार पर जीने की सलाह मिलती है।

सारांश के रूप में, इस्लाम एक प्रमुख धर्म है जो दुनिया भर में लोगों द्वारा मान्यता प्राप्त है।

यह एकदेशीयता, शांति, और अनुशासन के मूल्यों पर आधारित है औ

र उसे अल्लाह के उपदेशों का पालन करके जीने की सलाह दी जाती है।

इस्लाम में नबी और पैग़ामबरों के उपदेशों का महत्वपूर्ण स्थान है और

उनके जीवन की गवाही से मुसलमानों को धार्मिक और नैतिक मूल्यों के आधार पर जीने की सलाह मिलती है।

QURAN ME KITTNE NABIYO KA ZIKR HAI

 कुरान में कुल 540 रूकू, 14 सज्दा, 86,423 शब्द,

32,376 अक्षर और 25 नबियों व रसूलों का जिक्र किया गया है.

ISLAM ME SUNNI SHIYA

YE IMAGE KE THROUGH JANIYE

ISLAM KE BARE ME OR JANNE KE LIYE SUBSCRIBE KARE

Leave a Comment